Aug 26, 2013

सूर्योदय और कमल के फूल

सारनाथ रेलने स्टेशन के पास यह पुराना पोखरा है। यहाँ सिंगाड़े की खेती होती है।  


अब आप कहेंगे यहाँ कमल कहाँ है? सुबह-सुबह किशोर उम्र के बच्चे सारनाथ से कई स्टेशन आगे जाकर, ताल पोखरा ढूँढकर, कमल के फूल तोड़कर लाते हैं और बुद्ध मंदिर के पास तीर्थ यात्रियों को बेचते हैं। एक लड़का दिखा जो साइकिल में कमल के फूल लिये जा रहा था। मैने उसे रोका और यह तस्वीर खींची।


यह रहा कमल के फूल वाला लड़का।


5 comments:

  1. दीपावली पर खूब बिकेंगे.


    क्या यहाँ मखाना भी होता है.

    ReplyDelete
  2. सुन्दर तस्वीरें।। बढ़िया प्रस्तुति सर!!

    नेताजी की फाइल और भारत में हैकिंग।

    ReplyDelete
  3. आज की बुलेटिन ऋषिकेश मुखर्जी और मुकेश .... ब्लॉग बुलेटिन में आपकी पोस्ट (रचना) को भी शामिल किया गया है। सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर तस्वीरें,बहुत उत्कृष्ट अभिव्यक्ति..श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें!
    कभी यहाँ भी पधारें
    http://saxenamadanmohan.blogspot.in/
    http://saxenamadanmohan1969.blogspot.in/

    ReplyDelete